USP क्या होता हैं? इसके क्या Use हैं जानिए

Hello, दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट बताएगे कि UPS क्या होता है साथ ही इसके क्या उपयोग हैं. UPS का Full Form Uninterruptible Power Supply होता है. इसका मुख्य काम Main Power जाने पर आपके Hardware को Emergency Power Provide करना हैं. ताकि Main Power जाने पर आपके Hardware के डेटा को Lost का खतरा ना रहे. साथ ही इसके और भी बहुत सारे Use हैं. जिनके बारे में आज हम आपको इस आर्टिकल में बताने वाले हैं तो दोस्तों इसे पूरा पढ़े.

UPS के उपयोग क्या हैं?

इसका उपयोग हार्डवेयर एमरजेंसी पॉवर देने के लिए होता है छोटे UPS से आप अपने कंप्यूटर को 15 मिनट तक Power दे सकते हो इतने समय में आप अपनी फाइल्स को Save कर सकते हो Main Power बंद होने पर आपका डाटा अचानक नही जायेगा. और इससे आप बल्ब व Router को भी 4-5 घन्टे तक power दे सकते हो. इसको Normally Charge होने में 7-8 घन्टे लगते है. ये UPS जो आज हमारे Daily उपयोग में आते है.

UPS का Use बड़ी बड़ी कंप्यूटर Labs और Data Center में भी Main power Supply नहीं होने पर एमरजेंसी Power के लिए किया जाता है. ये यूपीएस जब तक Power देते हैं जब Electrical Generator से Power की Supply नही की जाती हैं. Voltage प्रॉब्लम में इसका महत्पूर्ण उपयोग होता है. जब यूपीएस की बैटरीज खत्म होने वाली होती है तो ये System में एक Alert भेजता है ताकि आप Power जाने से पहले अपनी Open फाइल्स को Save कर सके और आपका डाटा Lose ना हो.

यूपीएस हमारे लिए  काफी उपयोगी हैं. क्युकी कभी पॉवर ज्यादा या कम आता है तो ऐसे में  हमारे Computer को Shut Down होने से बचाता है और Computer के बंद होने से पहले हमारे द्वारा किया काम Delete नहीं हो जाए उससे पहले उससे सेव कर देना है. ये आपके Router को भी पॉवर देता हैं ताकि Main पॉवर जाने पर आपका इंटरनेट बंद नही हो. ये हर एक Computer लगा होना चाहिए इसके बिना आपका Computer ख़राब भी हो सकता है

 UPS का उपयोग कहा और कैसे होता हैं?

  1. Rectifier(रेक्टिफायर) :- इसका कार्य आ रहे AC (Alternating Current) करंट को DC(Direct Current) में बदलना होता है क्युकी Batteries और हमारे इलेक्ट्रॉनिक Devices जैसे- Computer, TV, Router आदि DC करंट Use करते है. इसलिए ये AC को DC करंट में बदलता है. इससे आ रहे DC करंट से Batteries Charge होती रहती है. ये Power Overload और पॉवर के Surge को भी Maintain कर लेता है.
  2. Inverter(इन्वेटर) :- ये DC वोल्टेज को AC वोल्टेज को में Convert कर देता है और ये AC वोल्टेज को Regulate व Filter भी करता है. यह आ रहे Low वोल्टेज को हमारे घरों में उपयोग होने वाले हाई वोल्टेज DC में बदल देता है.
  3. Static Bypass:- अगर हमारे UPS में कुछ Fault या Overload होने पर यह हमारे System को Automatically Main Supply से जोड़ देता है. हमारे सिस्टम का Connection यूपीएस से Main सप्लाई पर Transfer हो जाता है.
  4. Battery:- इसका उपयोग Power को स्टोर करने के लिए होता है जब Main Power कट हो जाती है या Overload और Power Surge के समय बैटरी से Device को पॉवर सप्लाई दी जाती है. ये हमारे System को ब्लैकआउट, Voltage Sag, Voltage Surge या Over-Voltage होने पर Power Provide करवाता है यह घर में Use होने वाले Equipment (PC, Gaming Console, TV, Bulb) को एमरजेंसी पॉवर दे सकता है कुछ समय तक बैटरी में पॉवर खत्म होने पर वो Equipment भी बंद हो जाएगे.

UPS के प्रकार?

1. Standby USP:

इसका कार्य आपको Equipment को Unexpected Power Surge और Power Outage (Power Cut, Blackout) से बचाना है व अपनी Battery से पॉवर बैकअप Provide कराना है. AC पॉवर का प्रवाह सामान्य स्थति यूनिट में होता रहता है अगर किसी तरह का पॉवर Failure होने पर ये बैटरी मोड में Switch हो जाता है.

2. Line-Interactive UPS:

ये यूपीएस ऐसी Technology पर कार्य जिसमे ये Power के Under-Voltage और Over-Voltage होने पर बिना बैटरी का प्रयोग करे पॉवर को सम्भाल लता है और Blackout व Power Surge से Protect करता है. इसका ज्यादातर उपयोग कम्पनीज और नेटवर्क्स Equipment में होता है यह ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों मोड में कार्य करने में सक्षम है.

3. Double Conversion UPS:

यह आ रहे Low Voltage AC कंरट को DC में कन्वर्ट करता है और फिर वापस उसे High Quality AC Power में बदलना. Capacitor High और Low Voltage को करंट को संभालकर बैटरी में स्टोर करवाता है. यह सब काम एक Normal Grid पर होने से वोल्टेज व Fluctuations का खतरा बढ़ जाता है यूपीएस में इस परेशानी से बचने के लिए एक अलग से Auto Bypass या Eco Mode भी होता है जो ऐसी Problem होने पर AC Power को Direct सिस्टम में भेज देता है और Double Conversion को Suspend और Resume करता है.

UPS के फ़ायदे

  1. ये हमारे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे- PC, Router, Server, Network आदि को कुछ मिनटों से लेकर घंटो तक पॉवर सप्लाई प्रदान करता है.
  2. यह Inverter जितना महंगा नहीं आता है इसलिए हर कोई अपने सिस्टम में इसको Use कर सकते है.
  3. अपने अपने कंप्यूटर जो कार्य किया होता है पॉवर कट होने पर इससे आपको आपका कार्य सेव करने जितना समय मिल जाता है आपका Data Lost नहीं होता है.
  4. इसकी बैटरी Rechargeable होती है जो Charge होती रहती है और बिजली भी कम उपयोग करती है.

UPS के नुकसान

  1. इसकी बैटरी को वापस चार्ज होने में करीब 7-8 घंटे लगते है इसकी बैटरी ज्यादा समय तक नहीं चल पाती है.
  2. यूपीएस का पॉवर बैकअप काफी कम होता है कभी कभी तो ये कुछ मिनटों का बैकअप ही देता है इतनी समय में तो आप बस काम Save ही कर सकते हो.
  3. बड़े बड़े Office में तो इन्वर्टर ही एक सही आप्शन माना जाता है. क्योकि इसको लगाने से खर्चा बढ़ जाता है.

यूपीएस का उपयोग करके हमारे काफी सारे काम आसान हो जाते है हमारे द्वारा कंप्यूटर पर किया हुआ काम भी व्यर्थ नहीं जाता है. यूपीएस डाटा सेन्टर से लेकर हमारे घरों तक में उपयोग में लाया जाता है. तो दोस्तों आज की हमारी यह जानकारी आपको कैसी लगी जरुर बताये. UPS full form के बारे में बहुत सारे लोग नहीं जानते है. यहाँ पर आपको इसके बारे में पूरी जानकारी यहाँ पर मिलेगा

100 लोगो ने शेयर किया

Leave a Comment